अपने को दिव्य माने क्योंकि यह जीवन दिव्य है - विवेक जी