आप ही इस राष्ट्र की नियति हैं - विवेक जी