प्रश्नो से ज़्यादा दिव्य और कुछ नहीं - विवेक जी