स्वतंत्रता-धर्म और संस्कृति से ख़तरा चीन को


स्वतंत्रता-धर्म और संस्कृति से ख़तरा चीन को

जहाँ  विचारों की स्वतंत्रता नहीं होती वहीँ बच्चों को पैदा करने की भी स्वतंत्रता नहीं होती, जहाँ विचार कुचले जाते हैं, वही पर जन्मजात बच्चे भी। चीन जो विचारों की स्वतंत्रता नहीं देता वो बच्चों की कहाँ से देता, वे व्यक्तिगत जीवन के खिलाफ हैं , और भारत में, जो इस राष्ट्र का अनादर करते हैं उन्हें भी सुप्रीम कोर्ट आधी रात में समय  देता है।


भारत का भारत होना चीन का दुःख है, चीन भारत की सांस्कृतिक शक्ति के साथ युद्ध करना चाहता है नहीं तो चीन के नागरिक स्वयं चीन की सत्ता से विद्रोह कर देंगे।